philosophy, poetry, Soulful, Spiritual

दिया और बाती

दीए ने बाती से, 

कुछ कहना चाहा |

समय सही थी, 

और जज़्बात भी |

दिया बोला, 

कुछ व्याकुल होकर –

“इस सुनी चौखट, 

और अँधेरी गली में, 

अनजान शहर में, 

और यहाँ बसने वालों की 

बेरुखी में |”

ये सुनते ही बाती ने दिए को रोका और बोली, 

कुछ अप्रभावित सी –

” आज हूँ मैं, 

कल नहीं,

इस लौ के साथ, 

ख़तम हो जाऊँगी,

ना सुनी चौखट, 

ना अँधेरी गली, 

और ना ही इस अनजान शहर में, 

बसने वालों की बेरुखी, 

से मेरा कोई वास्ता है | “

दिया बोला, 

एक गहरी कसक के साथ –

” सही कहा तुमने, 

जिसकी परेशानी वो जाने, 

तुम जलकर ख़ाक हो जाऊगी, 

एक लौ मैं सिमटी है, 

तुम्हारी ये ज़िन्दगी, 

और उतनी ही सिमटी सोच है |”

इस पर बाती बोली, 

क्रोधित होकर –

” हाँ ! सही कहा, 

ये एक लौ की ज़िन्दगी मेरी, 

 सब कुछ रौशन

तो करके जाती है, 

लेती नहीं कुछ भी , 

और बस ख़त्म हो जाती है |

तुम किस काम के हो?

ज़र्र सा फ़िसले, 

और चूर चूर |

वरना यूँही व्यर्थ पड़े हुए, 

एक गुमनाम ज़िन्दगी लिए |

ज़िन्दगी हो कम सही, 

कर्मण्य हो मगर | “

अब दिया बोला, 

 मुस्कुराते हुए –

” ये लौ की ख़ाक, 

मुझ पर भी रह जाएगी, 

किसीके नैनों का

 काजल बनेने के  लिए, 

कुछ खो कर ही 

कुछ पाते हो, 

दस्तूर ज़िन्दगी का 

इस तरह निभाते हो, 

कौन कितना जिया 

इससे क्या वास्ता |

सार्थक जीवन वही, 

जहाँ ग्लानि और पीड़ा

अपने से ज़्यादा, 

दूजे की, 

महसूस की जाए, 

और

ये स्वीकार करो,

कि

जीवन ये भी है और वो भी, 

अतुल्य है, अमूल्य है, 

तुम्हारा भी और मेरा भी |”

ये सुनकर, 

बाती और प्रज्वलित हो उठी, 

और बोली, 

स्नेह से –

“आओ मेरे संग, 

ओ ! माटी का प्यारे से रूप, 

मैं भी उसी धरा का एक अंश हूँ, 

और 

वहीँ फिर मिल जाना है, 

तुम्हें भी और मुझे भी, 

ये आखरी मुलाकात नहीं, 

मिलन की बेला है, 

आओ संग मेरे, 

ख़ाक बनकर तुमपे लिपट जाँऊ, 

सफ़ल हो जाएगा मेरा ज़िन्दगी का ये सफ़र |”

और यूँ झिलमिलाती वो लौ, 

विलीन हो गई, 

दिए की काया पर |

असीम प्रेम इसे ही कहते हैं |

दिया : बाती : प्रेम

दर्शन

दोपहर

जीवन की एक हक़ीक़त ऐसी भी |

पगदण्डी और धूप

दोपहर

अप्रैल की 40 डिग्री वाली गर्मी का था कुछ ऐसा नज़ारा,

दोपहर के 2 बजे वाली धूप में सुलगता था शहर सारा,

तपती काली सड़क के उजले उजले से वो किनारे,

मगर पगदण्डी पर बनते ना जाने कितने अँधेरे भरे नज़ारे,

कोई फटी बोरी पर करता है चीज़ों की नुमाइश,

कोई काठ के टुकड़ों पर रखता अपनी हर अधूरी ख़्वाहिश,

कोई पुरानी चादर का बिस्तर है सजाता,

कोई टीन के पट्टे को अपनी छत है बनाता,

कोई मैले पानी से रगढ़कर धोता यूँ टूटे फूटे से बर्तन,

कोई किफ़ायत से यूँ खाता गैरों की दी हुई झूटन,

कोई दुआ के बदले सिक्के माँगता,

कोई बार बार पगदण्डी का दायरा लाँघता,

कोई बारिकी से खंगालता कचरे का खज़ाना,

कोई गिरता पड़ता चिल्लाता ना जाने कौन सा अफसाना,

कोई यूँही बैठा रहता यूँही शुष्क निशब्द,

हर कोई नज़र आता जैसे हो अपनी किस्मत से बद्ध,

ना ही कोई बसेरा, ना ही कोई सहारा,

सड़क की इस पगदण्डी पर ही बीत जाता जीवन सारा |

जीवन : हक़ीक़त : धूप

inspiration, poetry

मेरा देश

ये भारत नहीं, सब्र और समर्पण की मिसाल है |🙏🙏

भारत

मेरा देश 
सौंधी मिट्टी और तप्ति धूप सा,

 ये प्यारा देश मेरा,

जहाँ पल पल सिक्ता सब्र,

आँच पर अभाव के, 

बचपन में खिलौेने का,

शिक्षा, और सुरक्षा का,

यौवन में नौकरी का,

व्यापार का, और परिवार का,

स्त्री के मान का,

वृध्द के सम्मान का,

गरीब की भूक का,

बेघर के बसेरे का |

इंतज़ार और उम्मीद,

कुछ खुद से,

कुछ सरकार से,

कुछ आत्मबल से, 

कुछ दरख़्वास्त से |

सौंधी मिट्टी सा ये,

इस ताप को राहत देता,

पहली बारिश की बौछार हो जैसे,

सब्र की इस आग को, 

हौले हौले शाँत कर देता |

देश: भारत: सब्र