poetry, Soulful

तुम साथी, मैं संगिनी

Source : Internet

मुझे मोती की माला की चाह नहीं,
तू लहरों के चूमे हुए,
रेत में लिपटे हुए,
कुछ कोरे सीपी ले आना,
उन्हें पिरोकर एक हार बना लूँगी |
मुझे सोने के कंगन नहीं लुभाते कभी,
तू शहर के पुराने बाज़ार से,
कॉंच की रंग बिरंगी चूड़ियाँ ले आना |
मुझे रेशमी साड़ी नहीं पहननी,
तू सतरंगी सूती साड़ी ले आना |
मुझे चाँदी की पायल नहीं छनकनी,
तू दरगाह से मन्नत का धागा ले आना |
मुझे पकवान मिठाई नहीं खाने,
तू सड़क किनारे इन झाड़ियों से तोड़कर
एक टोकरी मीठे पके बेर ले आना |
मुझे काँसे के बर्तन नहीं खरीदने,
तू पड़ोस के कुम्हार से,
मिट्टी के कुछ बर्तन ले आना |
मुझे मेहेंगे इत्तर नहीं छिड़कने,
तू इस आँगन में मेहकते हुए,
मोगरा रजनीगंधा के पेड़ लगाना,
भोर की बेला में,
कुछ कलियाँ तोड़कर,
इन केशों को सजा देना |
मुझे इस घर को,
कीमती चीज़ों से नहीं सजाना,
तू दशहरे के मेले से,
लकड़ी की छोटी बड़ी आकृति ले आना |
मुझे कहीँ सैर पे दूर मत ले जाना,
पूनम की चाँदनी रात में,
झील में नौका विहार करा लाना,
सावन में छतरी ना सही,
शाम को बारिश में भीगते हुए,
निम्बू मिर्ची रचा हुआ,
कोयले पे सिका हुआ,
भुट्टा खिला आना,
मई की सुलगती गर्मी में,
गली में घूमते हुए,
उस बूढ़े फेरीवाले से,
बर्फ़ का गोला दिला देना,
दिसंबर की ठिठुरती ठंड में,
पुराने किले के बाहर बैठे,
उस छोटे से तपरीवाले से,
एक प्याला मसाला चाय पीला लाना |
मुझे मोटर गाड़ी में नहीं बैठना,
तू साइकल में बैठाकर,
मुझे खेत खलियान की सैर कराना |
मुझे गद्देदार शय्या में नहीं सोना,
खुली छत पर चटाई बिछाकर,
सितारों भरी रात में,
पूर्वय्या के मंद स्पर्श के साथ,
सुकून की नीन्द सुला देना |
बस यूँही उम्र भर साथ रहकर,
हर पल को ख़ुशनुमा,
और यादगार बना देना |


साथी : संगिनी : विवाह

दर्शन, philosophy, poetry, Soulful

प्रियतम और भोजन

पत्थर की पटिया साफ़ पड़ी है,
बर्तन भी सारे धुल गए,
भोजन का वक़्त हो गया,
सबके आने का वक़्त हो गया,
चलो तैयारी करलूँ –
” चार मुट्ठी चावल निकाल लूँ,
और भिगाकर रख दो उन्हें,
तब तक ज़रा खेत से,
पालक के कुछ पत्ते तोड़ लूँ,
इमामदस्ते में कूट लूँ ज़रा,
खड़े मसाले सारे,
लाल मिर्च थोड़ी ज़्यादा डाल देती हूँ ,
इन्हें तीखा जो पसंद है,
लहसुन की दो डली काफ़ी है,
अरे! अदरक तो बाज़ार से लाना भूल गई,
चलो कोई बात नहीं,
अदरक का अचार मर्तबान में रखा है,
उसी को इस्तमाल करुँगी,
पालक को धोकर काट लेती हूँ,
हांडी में चावल चढ़ा देती हूँ,
तेल भी अब गरम हो गया,
जीरे लहसुन का तड़का लगा लूँ,
पालक भी अब भुन कर पक गया,
इनमें पके चावल मिला दूँ,
ढँक के दम देती हूँ इन्हें,
तब तक साड़ी की इन सिल्वटों,
और इन उलझी लटों को सुधार लूँ,
आईने में देखलूँ खुदको ज़रा,
कुमकुम सुरमा फिर से लगा लूँ,
एक हरी चूड़ी टूट गयी थी,
उलझकर खेत के काँटों में,
दूसरी चूड़ी पहन लेती हूँ |
शिखर के मंदिर की आरती अब समाप्त हुई,
फेरलीवाले भी अब वापस जाने लगे,
लगता है इनके आने का वक़्त हो चुका |
आँगन में बैठ जाती हूँ कुछ देर,
जूड़ा अधूरा सा लग रहा है,
जूही के इन फूलों का गजरा बना लूँ |
पालक भात की खुसबू के साथ,
गजरे की महक भी घर में फैला दूँ,
ये दिया जो चौखट पे जल रहा है,
तेल कम लग रहा है इसमें,
थोड़ा सा इसमें तेल डाल लूँ,
उफ़! ये बिखरे पत्ते नीम के,
इन्हें भी ज़रा साफ़ कर लूँ,
आते ही होंगे ये,
ज़रा आईने में खुदको फिर से निहार लूँ,
थाली लुटिया सब रख दी,
मुखवास की डिबिया भी,
बस इनकी राह देख़ रही हूँ,
आज इतनी देर क्यूँ हो गई?
बैठ जाती हूँ फिर से आँगन में,
पूनम के चाँदनी में धुला ये आँगन,
हल्की ठंडी पुर्वा का ये स्पर्श,
उफ़! कब आएँगे ये घर,
आज इतनी देर क्यूँ हो गई?”

विवाह : प्रेम : समर्पण

Soulful

सिन्दूर

Source : Aakash Veer Singh Photography

बेला मिलन की आ गई,

रुत सुहानी सी छा गई,

श्रृंगार करुँगी आज मैं,

मीत से मिलूँगी आज मैं,

रेन की गहरी काली स्याही से,

नैनों का काजल बनाऊँगी मैं,

सूर्यास्त की चमकती लालिमा से,

फीके होठों में रंग लाऊँगी मैं,

सावन के तृप्त पत्तों से,

हरी हरी चूड़ियाँ बनाऊँगी मैं,

आसमान में दमकते सितारों से,

ये ओढ़नी सजाऊँगी मैं,

गुलाब के मेहकते रस से,

इस देह को सुगन्धित बनाऊँगी मैं,

मोगरे की कच्ची कलियों से,

केशों का गजरा बनाऊँगी मैं,

मेहंदी के ताज़े पत्तों को,

इन हथेलियों को रचाऊँगी मैं,

चाँद के निरर्भ नूर से,

पैरों की पैनजनिया बनाऊँगी मैं,

जल की सुनहरी तरंग से,

नसीका का छल्ला बनाऊँगी मैं,

तपती कनक सी इस भूमि से,

कान के झुमके बनाऊँगी मैं,

काली घटा के सिरे की रोशनी से,

मांग का लशकारा बनाऊँगी मैं,

फिर बैठुँगी समक्ष इस अग्नि के,

प्रीत की लौ जलाऊँगी मैं |

मगर ये श्रृंगार अधूरा है,

इस पूर्ण कैसे बनाऊँगी मैं?

अब बारी है मीत की,

इस श्रृंगार पूर्ण बनाने की,

परिणय के प्रतिक को,

मेरी कोरी मांग में सजाने की |
ह्रदय के रक्त सा ये सिन्दूर,

जब भरेगा मीत इस मांग में,

हया से पलके झुकाऊँगी मैं |

फिर कहेगा ये मन तुमसे –

“जीकर इस कुमकुम भाग्य को,

तुम्हारी संगिनी कहलाऊँगी मैं |”

सिन्दूर : परिणय : संगिनी